DesiEvite Blog

Recently Posts

Categories

Archives

नवदुर्गा

Saturday, October 08, 2016 | 8:37:00 PM

"नवदुर्गा" नौ रूपों में तेरे माँ, ममता की झलक है;
तेरी आभा से रोशन, ये धरा और फलक है;
तू आकर बस जाए, हर दिल में हर घर में;
यही चाह है हम सबकी, तेरे दुलार की ललक है।
नौ रूपों में तेरे माँ, शक्ति भरी पड़ी है;
धरती पर जब-जब भी, दानवी बाधा अड़ी है;
हर रूप में आ-आकर, रक्षक बनी है तू;
अपने बच्चों की खातिर, तू हर समय खड़ी है।
नौ रूपों में तेरे माँ, संदेश विजय का है;
शांति, करुणा, सहनशीलता, हर भाव विनय का है;
नहीं पनप सकती बुराई, कभी भी तेरे आगे;
वाहन भी तेरा अभेद्य है, प्रतीक वो जय का है।
नौ रूपों को तेरे माँ, अपना प्रणाम करती हूँ;
शीश तेरे चरणों में, मैं सुबह शाम धरती हूँ;
आशीष दो हम सबको, अपने दुलार से भर दो;
न्याय-पथ पर चलूँगी, आज यह प्रण करती हूँ।

अर्चना अनुप्रिया।

 

"Navadurga" Nine Forms, your mom A glimpse of mamata;
Let your glow, This is vain, and panel You are only coming, In every heart, every home This is all we desire, Excel your spoiled.
Nine Forms, your mom Full Strength,, When on earth, - Aṛī Ogress came obstacle;
In every form-appeared You are the custodian of;
For the sake of their children, Every time you are standing.
Nine Forms, your mom Message of victory;
Peace, tolerance, compassion, In every sense of the king;
Could not of evil, Sometimes, your still ahead Your vehicle is impenetrable The icon she is hail.
Nine ways to your mom, Hello, I own, Sheesh in your feet, Morning and evening.
I am earth, Ashish, two together With his spoiled;
On the path of justice, calūm̐gī Today I vow.

Archana Anupriyā.

 

Posted By Archana Anupriya

User Comments

Leave a comment/Review?

  • Your IP is being logged.
  • Your e-mail address is used only for verification purposes only and will not be sold, or shown publicly.
  • HTML tags allowed.